हाथरस-भूख और प्रषासन की लापरवाही ने ले ली छोटेलाल की जान

हाथरस। भुखमरी की घटनाएं जिले में थमने का नाम नहीं ले रही हैं। लेकिन षासन और प्रषासन इन घटनाओं को भुखमरी की दृश्टि से देखना ही नहीं चाहता है। ‘राश्ट्रीय सुख’ ने करीब ढाई माह पहले मैण्डू के छोटेलाल की झोपड़ी की बेबसी और भूख के बारे में प्रमुखता के साथ समाचार प्रकाषित किया था। समाचार के बाद प्रषासन ने इतना जरूर किया कि छोटेलाल के घर 10 किलो गेहूं और बीस किलो चावल का इंतजाम कर दिया।

लेकिन इतना राषन तीन लोगों के लिए कितने दिन तक चल सकता है। अभी विगत दिनों छोटेलाल की भूख से मौत हो गई।  लेकिन प्रषासन इसे भूख से मरा नहीं मान रहा है। प्रषासन ने यहां आकर इस परिवार का हाल तक नहीं जाना है। सासनी में पिछले साल एक झोपड़ी में एक महिला की मौत हो गई थी तो प्रषासन ने पोस्टमार्टम कराये बिना ही उसका आनन-फानन अंतिम संस्कार करा दिया था।

input by-kailash pooniya

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*