विराट कोहली को इस फैसले की वजह से मिल सकती है ये बड़ी सजा

Input By Yash

आमतौर पर गलती को सुधार कर उसे ठीक किया जा सकता है। लेकिन, इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट में विराट कोहली ने जो गलती की है उसे ठीक नहीं किया जा सकता।दरअसल, इसकी गुंजाइश भी नहीं है और वो इसलिए क्योंकि ये गलती उन्होंने टीम इंडिया के प्लेइंग इलेवन को चुनने को लेकर की है और, क्रिकेट मैच में एक बार जो प्लेइंग इलेवन आपने चुन ली फिर उसे आप बदल नहीं सकते।

गड़बड़ हो गई, गलती हो गई।

लॉर्ड्स का मौसम और मिजाज सब तेज गेंदबाजी के अनुकूल था। लेकिन इसके बावजूद भारतीय टीम के कप्तान कोहली ने टीम में मैनेजमेंट के साथ मिलकर दो स्पीनर्स जगह दी। उन्होंने आखिरी  मा उमेश यादव को छोड़कर कुलदीप यादव को खिलाया लेकिन जब इंग्लैंड पर वार करने की बारी आई तो विराट को अपना दांव कामयाब न होता देेख, अपनी गलती का अहसास हो रहा है।

कुलदीप को खिलाने का खामियाजा

लॉर्ड्स टेस्ट में कुलदीप की उपयोगिता न के बराबर है इस बात का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है की तीसरे दिन के खेल में उन्होंने 10 ओवर भी नहीं फेंके और 9 ओवर फेंककर 44 रन दे दिए। वहीं अब तीसरे गेंदबाज की कमी भारतीय टीम को बुरी तरह खल रही है। इससे सारा बोझ मोहम्मद शमी और इशांत शर्मा के कंधों पर आ गया है जिससे उनका वर्कलोड बढ़ गया है।

गावस्कर और वान ने उठाए फैसले पर सवाल

सुनील गावस्कर ने उमेश यादव को न खिलाने के कोहली के फैसले को उनकी बड़ी भूल बताया। वहीं इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वान ने भी इस फैसले को भारतीय क्रिकेट थिंक टैंक की स्ट्रेटजी का फेल होना बताया।

हार के तौर पर मिल सकती है सज़ा

अब सवाल है कि क्या विराट को इसकी सजा मिलेगी या फिर वो इससे बचने का प्रयास करेंगे। दरअसल, यहां सजा का मतलब टीम इंडिया की हार से है। मैच में उमेश की गैरमौजूदगी का खामियाजा तो विराट एंड कंपनी भुगत ही रही है। लेकिन, अब उनपर पारी से हार का खतरा भी मंडराता नजर आ रहा है। अगर टीम इंडिया को पारी से हार मिलती है तो ये उसके लिए कप्तान की की गई बड़ी गलती की सजा की तरह होगी। हार के तौर पर मिलने वाली इस सजा से टीम इंडिया सीरीज में 0-2 से तो पिछड़ेगी ही साथ ही उसके लिए वापसी कर पाना नाको चने चबाने जैसा हो जाएगा।

 

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*