पर्यावरण का बढ़ाए औंधा ज़रूर लगाएँ पौधा : नीता सिंह

आकांक्षा समिति द्वारा नवग्रह, पंचवटी व हरिशंकरी वाटिका की स्थापना कर किया वृक्षारोपण

बरेली: जिला आकांक्षा समिति की अध्यक्षा श्रीमती नीता सिंह पत्नी जिलाधिकारी वीरेन्द्र कुमार सिंह द्वारा फरीदपुर वनचेतना केन्द्र के स्मृति वन में नवग्रह, पंचवटी व हरिशंकरी वाटिकाओं की स्थापना कर वृक्षारोपण किया गया। नवगृह वाटिका में गूलर, शमी, दूब घास, कुश, लटजीरा, मदार, ढाक, खैर एवं पीपल के पौधे लगाये गये। पंचवटी वाटिका में बरगद, पीपल, आंवला, बेल एवं अशोक तथा हरिशंकरी वाटिका में पीपल, बरगद एवं पाकड के पौधों का रोपण किया गया। वन महोत्सव कार्यक्रन में ज़िलाधिकारी की धर्मपत्नी नीता सिंह ने कहा पर्यावरण की रक्षा के लिए ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण करने की अपील की. कहा कि पेड़-पौधे जलवायु को संतुलित रखते हैं. वर्तमान में धड़ल्ले से इसकी कटाई हो रही है. पाकुड़ : मनुष्य को कम से कम अपने जीवन में पांच पौधे लगाना चाहिए. आज पर्यावरण का जो हाल है, इसे स्वच्छ करने का मात्र एक उपाय है कि अधिक से अधिक पौधा लगाये
फिर वन में मौलश्री, टीकोमा, गुलमोहर, फाइकस बैजामिना, कचनार एवं बोगन बेलिया के 250 पौधों का रोपण किया गया। वृक्षारोपण कार्य आकांक्षा समिति की अध्यक्षा श्रीमती नीता सिंह, श्रीमती कृति सिंह, डॉ ऊषा जैन, श्रीमती आभा मोगा, श्रीमती प्रतिभा चौहान, बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रीमती तनुजा मिश्रा, जिला उद्यान अधिकारी पूजा, जिला पूर्ति अधिकारी सीमा त्रिपाठी, जिला प्रोबेशन अधिकारी श्रीमती नीता अहिरवार, खनन अधिकारी सुश्री शिवी सिंह सहित कस्तूरबा गाँधी विद्यालय की शिक्षिकाओं एवं छात्राओं के द्वारा किया गया।आकांक्षा समिति की अध्यक्षा श्रीमती नीता सिंह ने अपने सम्बोधन में कहा कि यह महोत्सव है इससे लोगों में जनचेतना जागृत होती है। जीवन के लिए पेड़ अनिवार्य हैं। पर्यावरण संतुलन में पेड़ों की बड़ी एवं अहम भूमिका है। हर महिला पुरूष को अपने जीवन में अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए। मानव के लिए जीवन दायिनी ऑक्सीजन केवल पेड़ों से ही मिलती है। वृक्ष ऑक्सीजन की फैक्ट्री होते हैं। उन्होंने कहा कि कस्तूरबा गाँधी विद्यालय में आकांक्षा वाटिका की स्थापना कराई जायेगी। श्रीमती कृति सिंह ने बच्चों को पेड़ लगाने की शपथ दिलाते हुए वृक्षारोपण के महत्व पर प्रकाश डाला।

Input By:Vivek Singh

Random Posts

One thought on “पर्यावरण का बढ़ाए औंधा ज़रूर लगाएँ पौधा : नीता सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*