fastupnews.com

देवरिया प्राथमिक विद्यालय को बना दिया इस्लामिया स्कूल

उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद में सरकारी नियमो की धज्जियाँ उड़ाते हुए स्कूलों के हेडमास्टर ने सरकारी प्राथमिक स्कूलों का नामकरण इस्लामिया प्राथमिक स्कुल के नाम से कर दिया गया है, जी हां यह हैरान करने वाली तस्वीर है जहाँ  सरकारी संरक्षण में यह इस्लामिया प्राथमिक स्कुल चलते है जहा शुक्रवार को जुमे के दिन विद्यालय की छुट्टी रहती है और रविवार के दिन स्कूल खुला होता है|इस मामले के उजागर होने के बाद शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है | स्कूलों के हेडमास्टरों ने ही यह बताया की शुक्रवार को बंदी रहती और स्कूलों के नाम में इस्लमिया लिखने की परम्परा सन 1904 जबसे यह विद्यालय है तब से चला आ रहा है | 

देवरिया जनपद में चार इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय चलते है इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय नवलपुर ,इस्लामिया आदर्श प्राथमिक विद्यालय करमहा, इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय सामीपट्टी, इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय पोखरभिंडा |

हम दो सरकारी प्राथमिक स्कूल की तस्वीर दिखाने जा रहे है पहला प्राथमिक स्कूल नवलपुर और दूसरा प्राथमिक स्कूल करमहा है यह दोनों स्कूल बेसिक शिक्षा विभाग के अंदर आते है यहां सभी टीचर मुस्लिम वर्ग से आते है इन स्कूलों का नाम बदल कर इस्लामिया प्राथमिक स्कूल कर दिया गया है यहाँ टीचर की उपस्थिति भी उर्दू में दर्ज होती है यहाँ शुक्रवार के दिन स्कूल बंद होता है और रविवार के दिन खुला होता है जब हमने यहाँ के टीचरो से बात की तो उनका कहना था की यह कई बर्षो से हो रहा है कोई सरकारी आदेश  नहीं है,यहाँ मुस्लिम वर्ग से 60 से अस्सी प्रतिशत बच्चे  पढ़ते है इस कारण यह ब्यवस्था कर दी गई है  इन दोनों स्कूलों की तस्वीर देख कर यही लगता है की यह दोनों सरकारी स्कूल हिदुस्तान में नहीं किसी मुस्लिम देश  में है सरकरी नियमो की यहाँ धजिया खुलेआम उड़ाई जा रही है वह भी अधिकारियो के नाक के नीचे| 

इस पुरे मुद्दे पर जब हमने नवागत जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से बात की तो उनका कहना था की बिगत शाम यह मामला संज्ञान में आया है मैने खंड शिक्षा अधिकारी से रिपोर्ट मगाई है जांच कर कारवाही होगी !

सवाल इस बात का है  की सरकारी स्कूल जहा सरकारी नियम से  चलते है सभी वर्ग  के एक सामान बेवस्था होती है पर एक धर्म विशेष  की यह अलग से ब्यवस्था कैसे हो गई  सरकारी स्कूल पर एक धर्म विशेष  का नाम कैसे अंकित हो गया जहा सभी अध्यापक धर्म विशेष के कैसे नियुक्त हो गए अपनी मर्जी से यहाँ कानून की धजिया उड़ाने की छूट इन्हे किसने दी यह सभी सवाल जिला प्रसाशन के कार्य प्रणाली की तस्वीर ब्यान कर रहे है कैसे इनके संरक्षण में देश में सरकारी स्कूल में इस तरह की मनमानी हो रही है !
Input By:Satya Prakash Tiwari

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*