fastupnews

सीतापुर किसान बेहाल, सरकार मालामाल, किसानों ने किया मोदी और योगी का बुद्धि – शुद्धि हवन

केंद्र में भाजपा सरकार ने 26 मई को 4 साल पूरे कर लिए हैं इन चार सालों को लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी सरकार के मंत्री अपने शासनकाल की उपब्धियां गिनाते नही थक रहे हैं औऱ सबका साथ सबका विकास का राग अलापने में लगे हैं भले ही भाजपा जश्न मनाने में जुटी हुई है लेकिन उत्तरप्रदेश के सीतापुर में किसान बदहाली के आँसू बहा रहा है  इन बदहाल किसानों ने परेशान होकर मोदी और योगी के लिए शुद्धि बुद्धि का हवन किया है किसानों का सीधा आरोप है कि भाजपा सरकार में किसान ही नहीकुछ अमीरों को छोड़कर देश की पूरी जनता की हालत बद से बत्तर हो गयी है मोदी सरकार के सत्ता में आने से पहले चनावों मेंभाजपा के नेताओं ने देश के किसानों नोजवानो से जो बड़े बडे वादे किए थे

उससे एक बार जरूर लगा था कि अगर देश मे भाजपा की सरकार आयी तो इस देश मे अन्नदाता कहे जाने वाले किसानों के भी शायद अच्छे दिन आ जाएंगे अब ऐसा शासन आएगा कि किसान भी मालामाल हो जाएंगे क्योकि भाजपा ने सरकार बनने के बाद किसानों की कर्जमाफी से लेकर किसानों की दुगनी आय करने का वादा जो किया था वही गन्ना किसानों  का भुगतान भी पूरा का पूरा करने के साथ साथ 24 घण्टे में भुगतान किये जाने की बात कही थी लेकिन मोदी सरकार के चार साल पूरे हो गए लेकिन किसानो का कोई भला नही हुआ किसानों की हालत बद से बत्तर हो गयी किसानआत्महत्या करने पर मजबूर हो रहें  देश का किसान  त्राहिमाम त्राहिमाम कर रहा है सीतापुर में ज्यादातर नहरें सूखी पड़ीं हैं.

 
अरसे से इनमें पानी की एक बूँद नही आई  किसान तड़प रहे हैं उनकी फसलें बर्बाद हो रही हैं शासन प्रशासन मौन है आज तक किसी ने कोई ध्यान नही दिया सिंचाई के लिए कोई खास साधन नहीं है बोरिंगे भी कम है जो बोरिंगे हैं भी उनसे  सिंचाई करना और भी बड़ा मुश्किल काम है डीजल की बढ़ती कीमते आसमान छू रहीं हैं जिससे किसान बेहाल है और डीजल की बढ़ती कीमतों से सरकार मालामाल हो रही है किसान बर्बाद हो रहें है बोरिंगो से सिंचाई में लागत ज्यादा आती है और फसलों की उतनी कीमत नही मिलती किसान गेंहू कम कीमत पर मंडियों में बेचने को मजबुर है

सरकारी खरीद के सेंटर सफेद हाथी साबित हो रहे हैं अगर गन्ना किसानों की बात करे तो पर्चियां मिलती नही और अबतक जो पर्चियों पर गन्ना बेचा उसका समय पर भुगतान नही मिलता ऐसे में किसान कर्ज में डूबते चले जा रहें हैं ऎसी हालत में जब किसानों को रास्ता नही दिखाई दिया तो भारी तादाद में इकट्ठे होकर किसानों ने देश के प्रधानमंत्री मोदी और यूपी के सीएएम योगी के लिए शुद्धि बुद्धि हवन किया ताकि हो सकता इस हवन के बाद शायद  इन नेताओं को सत्ता में आने से पहले किसानों से किये गए वादे याद आ जाएं और देश का किसान का भी कुछ भला हो जाये.
 
सीतापुर से करीब 60 किमी दूर रामगढ़ चीनी मिल के बिलकुल करीब. महज चन्दकदमो की दूरी पर किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं के साथ भारी तादाद में किसान इकट्ठा हो कर सूखी नहर के बीचोबीच मोदी और योगी की बुद्धि शुद्धि हवन का हवन किया इस दौरान किसानों ने केंद की भाजपा सरकार के प्रधानमंत्री मोदी और यूपी सरकार के सीएम योगी की बरबादी के मंत्र भी पढ़े गए.


 
देश के प्रधानमंत्री मोदी और सूबे के सीएम योगी पर तंज कसते हुए इन्हें धरती का भगवान बताकर  कहा कि वैसे तो सबका भगवान ऊपर है मगर हम लोगो ने इन्हें  धरतीे भगवान बनाया था सोचा था कि ये मेरा कल्याण करेंगे लेकिन भगवान बनने के बाद ये सो गए हैं अब इन्हें जगाने के लिए ये सब किया जा रहा है इसके बावजूद अगर ये नही जागे तो किसान शहीद होने को तैयार हैं जिसका खमियाजा इन्हें 2019 के चुनावों में भुगतना पड़ेगा.
 
विनय कुमार बताते हैं कि हम लोग भूल चुके हैं कि इस नहर में पानी कब आया था यहां के किसानों की स्थिति बहुत ही खराब है कई बार सरकार के नुमाइंदों तक ज्ञापन के माध्यम से अपनी तकलीफों को बताया भी जा चुका है यह कहे कह कर कि पानी नेहरू की टेल तक पहुंचाएंगे सरकारें तो बदल गई लेकिन पानी नहीं आया स्थिति इतनी खराब है की जो बोरिंग हैं वह भी जवाब दे चुके हैं।
 
इस संबंध में जब जिला गन्ने अधिकारी से बात की गई तो उनका कहना है कि सीतापुर आज उत्तर प्रदेश में तीसरे स्थान पर है. चीनी मिलों की पिराई की क्षमता फिक्स है. लेकिन बावजूद उसके किसानों का गन्ना लिया जा रहा है. प्रयास है कि जबतक किसान का गन्ना पूरी तरह से खाली नही होता मिल चलती रहेगी.

Input By:-Rahul Arora

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*