fastupnews

अमेठी-धमकी के विरूद्ध लामबंद हुए चिकित्सको ने कार्य बहिष्कार कर इस्तीफे कि दी धमकी

एक तरफ जहाँ प्रदेश की योगी सरकार अपने कार्यकर्ताओं को नसीहत देती रहती है कि प्रदेश की जनता की खुशहाली के लिए काम करें लेकिन इसके उलट अमेठी के नेता सत्ता का लाभ उठाकर गुंडई पर उतर आए है। अमेठी के शुकुलबाजार सीएचसी में तैनात अस्पताल प्रभारी शैलेश गुप्ता को तथाकथित स्थानीय हिन्दू युवा वाहिनी नेता द्वारा जान से मारने की धमकी देने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। अमेठी पुलिस द्वारा आरोपी पर कार्यवाही न करने से नाराज जिले के सभी डॉक्टर आज से तीन दिनों की हड़ताल पर बैठ गए जिसके स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। डाक्टरों का आरोप था कि हिन्दू युवा वाहिनी के स्थानीय नेता रमेश तिवारी ने अस्पताल प्रभारी से अभद्रता की और जान से मारने की धमकी दी लेकिन स्थानीय पुलिस ने मुकदमा लिखने से मना कर दिया जिसके बाद डॉक्टरों के प्रतिनिधि मंडल से एसपी से मुलाकात की तब जाकर मामूली धाराओं में दोनो पक्षो से मुकदमा दर्ज किया गया जो न्याय संगत नहीं है। अगर समय रहते अमेठी पुलिस ने कार्यवाही नही की तो जिले के सभी डॉक्टर सामूहिक रूप से इस्तीफा देंगे…।

मामला दरअसल शुकुलबाजार सीएचसी का है जहाँ चार जून को हिन्दू वाहिनी नेता मंडल अद्यक्ष को सूचना मिली कि सड़क दुर्घटना में घायल कुछ लोग अस्पताल पहुँचे है लेकिन अस्पताल कोई डॉक्टर मौजूद नही है जिसके बाद मौके पर समर्थकों के साथ पहुँचे तथाकथित हियुवा नेता अस्पताल में मौजूद डॉक्टर शैलेश से अभद्रता करने लगा और जान से मारने की धमकी दी।

यह भी देखे:-अमेठी मे बोले मंङला आयुक्त त्योहार को सकुशल निपटाये अधिकारी लापरवाही व संवेदनहीनता कतई बर्दाश्त नहीं

हियुवा नेता की धमकी से दहशत में आये डॉक्टर तत्काल इसकी शिकायत दर्ज कराने पहुँचे लेकिन दो दिनों तक चक्कर लगाने के बाद भी पीड़ित का मुकदमा शुकुलबजार थाने में दर्ज नहीं हुआ। कल देर शाम डाक्टरों का एक प्रतिनिधिमंडल ने एसपी से मुलाकात की तब जाकर पीड़ित की तहरीर पर मामूली धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ इतना ही नहीं आरोपी नेता के दबाव में पुलिस ने डॉक्टर पर भी क्रॉस एफआईआर दर्ज की। आरोपी नेता पर कार्यवाही न होने से नाराज जिले के सभी डाक्टरों हड़ताल का फैसला लिया और आज से तीन दिनों की हड़ताल पर बैठ गए। डाक्टरों का आरोप था कि अस्पताल अधीक्षक से लगातार दो तीन दिनों से अभद्रता की जा रही थी

यह भी देखे:-अमेठी-जायस कोतवाली मे सम्पन्न हुई पीस कमेटी कि बैठक ङीएम ने भयमुक्त वातावरण मे त्यौहार सम्पन्न करवाने कि कही बात

लेकिन प्रसाशन ने शिकायत के बाद भी कोई कार्यवाही नही की और चिकित्सक पर ही मुकदमा दर्ज कर दिया गया। अगर जरूरत पड़ी तो मुख्यमंत्री के सामने इस्तीफा दिया जाएगा। मेडिकल प्रोटेक्शन की धारा के तहत आरोपियों पर कड़ी कार्यवाही की जाए। थाना प्रभारी की मानसिकता बहुत की खराब है इन्हें वहाँ से हटाया जाय…।

 

 
वही पीड़ित डॉक्टर की माने तो रमेश तिवारी बगल के गांव के ही है और आये दिन अस्पताल में हुड़दंग मचाते है और गाली देते है। चार तारीख को उन्होंने हमें जान से मारने की धमकी दी और जब मैं शिकायत लेकर थाने गया तो थाना प्रभारी अरविंद तिवारी ने मुकदमा दर्ज करने से मना कर दिया। जब हम लोगो ने एसपी से मुलाकात की और दबाव बनाया तब जाकर मुकदमा दर्ज हुआ…।
 

 
वही पूरे मामले पर अपर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि डॉक्टर की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया है और मामले की जांच की जा रही है। पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की जाएगी और जो भी आरोपी होगा उस पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी…।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*