बरेली-अब विकास के तराज़ू से होगा सत्ता का आकलन : सौरव खन्ना

उप चुनाव के फ़ैसलो ने बदला राजनीतिक समीकरण

बरेली देश-प्रदेश की जनता अब विकास के लिये काम करने वाले नेताओं को ही राजनीति में प्रवेश करने का मौक़ा देगी धर्म जाति की राजनीति से आवाम ऊब चुका है । ऐसा कहना है युवा समाज सेवी सौरव खन्ना का उन्होंने बताया नूरपुर-करैना के नतीजों ने बीजेपी की हार को साबित कर दिया है माना जा रहा है । इसलिए 2019 के चुनाव में जनता फूँक-फूँक कर क़दम रखेगी और विकास पुरुष को ही अपना सिरमौर बनायेगी । शहर के आकाँक्षा एंकलेव निवासी युवा समाजसेवी सौरव खन्ना ने यह भी बताया उनका अनुमान है कि 2019 के चुनाव में विपक्ष के गठबंधन की बहुत बड़ी जीत होगी। सपा-बसपा-कांग्रेस मिलकर केन्द्र में सत्ता बनाने में सफल साबित होंगे देश-प्रदेश की जनता अब हुकूमत में बदलाव करने का मन बना चुकी है। उन्होंने बताया कि अब सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव दिल्ली की राजनीति में समय देंगे वहीं आगामी 2022 के विधानसभा चुनाव में उनकी पत्नी श्रीमती डिम्पल रावत यादव उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री की उम्मीदवारी सम्भालेंगी । जिस तरह से पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने यूपी में भगीरथ बन विकास की गंगा बहाई अब जनता उनके कामों की सराहना कर उन्हें याद कर रही है । अब जनता सिर्फ़ विकास-विकास और विकास चाहती है ।पूर्व में हुए गोरखपुर-फूलपुर व मौजूदा नूरपुर व करैना उप चुनाव के फ़ैसले इस बात का प्रमाण है कि जनता समझदारी से उम्मीदवार चुन रही है । एक पार्टी विशेष के लोग हर बार की तरह 2019 के चुनाव में भी एक बार फिर से राम मंदिर और हिन्दू मुसलमान के नाम पर वोट माँगेंगे। लेकिन प्रदेश की जनता भाजपा की बातों में अब नहीं आने वाली है कयोंकि देश की जनता चाल समझ चुकी है कि चुनाव से पहले राम मंदिर और हिन्दू मुसलमान का मुद्दा सत्ता हासिल करने के लिए उठाते हैं। मगर अबकि बार विकास कराने वाले नेता का ही बोलबाला होगा ।

Input By:Vivek Singh

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*