योगी सरकार के ङिप्टी सीएम के आदेश को ठेगा दिखा रहे अमेठी के कप्तान नही कर सके छात्र हत्याकांड का खुलासा प्रेस क्लब ने ङीएम से कि मुलाकात

सूबे के सबसे वीवीआईपी ङिस्टिक अमेठी मे अपराध का खासा बोलबाला है वर्ष 20-18 मे जनवरी माह से शुरू हुए अपराध ने पूरी अमेठी को झकझोर दिया है एक तरफ जहा अमेठी के लापरवाह एसपी कुन्तल किशोर अपराध पर अंकुश लगाने मे पूर्णतया नाकाम है वही खुद पुलिस अधीक्षक के साथ अमेठी प्रसाशन की लापरवाही की भेट चढी अमेठी कि जनता अब अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रही है ऐसे मे सवाल ये है कि सरकार के कद्दावर मंत्री वा खुद केंद्र वा प्रदेश मे बीजेपी सरकार के बाद भी आखिर कब अमेठी के लोग अपने आप को सुरक्षित महसूस कर पायेगे

मामला अमेठी जनपद के बहुचर्चित अभय हत्या कांड से जुड़ा है बङा सवाल ये है कि एक तरफ जहा पूरे मामले मे अब तक 90 दिन बीत चुके है वही इस हत्याकांड का खुलासा करने के बजाय अमेठी के लापरवाह एसपी कुन्तल किशोर ने भी अपराधियो के आगे घुटने टेक दिए है पूरे मामले मे एसपी अमेठी ने पीड़ित परिवार को गुमराह करने के साथ खुद अमेठी प्रभारी मंत्री मोहसिन रजा वा प्रदेश के ङिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के आदेश को भी ठेगा दिखा रहे

वही लगातार सरकार के कद्दावर मंत्री मोहसिन रजा भी अमेठी मे पत्रकारो को झूठा आश्वासन देकर गुमराह कर रहे है पूरे मामले मे 90 दिन से अधिक का समय बीत जाने के बाद पीड़ित परिवार को न्याय मिलता ना देख अमेठी प्रेस क्लब के प्रतिनिधि मंडल ने आज अमेठी जिलाधिकारी शकुन्तला गौतम से मुलाकात कर हत्याकांड मे पुलिस अधीक्षक कि कार्यशैली के विरूद्ध ज्ञापन सौपा ज्ञापन मे नाराज पत्रकारो ने अमेठी एसपी कुन्तल किशोर को कटघरे मे खराब कि साथ ही पाच मांगो को लेकर आगामी 8 मई से गौरीगंज के कलेक्ट्रेट परिसर मे घटना के खुलासे तक अनवरत आन्दोलन कि बात कही

वही पत्रकारो के प्रतिनिधि मंडल ने इन मागो के साथ घटना के खुलासे तक जिलाधिकारी पुलिस अधीक्षक प्रभारी मंत्री मंत्री के साथ सत्ता पक्ष के विधायक वा भाजपा संगठन कि सभी खबरो वा प्रेस कॉन्फ्रेंस का बहिष्कार करने का निर्णय लिया इसके साथ ही आगामी 10 मई को अमेठी मे होने वाले महामहिम राज्यपाल के कार्यक्रम मे घटना के संबन्ध मे वार्ता करने के साथ घटना का खुलासा 30 मई तक ना होने कि दशा मे परिवार के दुख मे शामिल होकर पत्रकारिता दिवस को काला दिवस के रूप मे मनाये जाने कि घोषणा कि

आपको बताते चले कि बीते 14 जनवरी को केंद्रीय जवाहर नवोदय विद्यालय मे पढने वाले हिन्दुस्तान अखबार के वरिष्ठ पत्रकार अजय सिंह के 17 वर्षीय पुत्र अभय सिंह कि निर्मम हत्या कर शव को विद्यालय परिसर से दूर रेलवे ट्रेक पर फेक दिया गया था पूरे मामले मे अब तक 90 दिन बीत जाने के बाद भी पीड़ित परिवार को न्याय नही मिल सका वही अमेठी के एसपी कुन्तल किशोर कि लापरवाही कि भी दाद देनी पड़ेगी जनाब ने पहले तो हत्याकांड के दिन जिले मे मौजूद होने के बाद भी घटनास्थल तक जाना मुनासिब नही समझा इसके साथ ही अब अपनी लापरवाही के चलते अपराधियो के आगे बेबस और लाचार होने के साथ पीड़ित परिवार को गुमराह करने वा सरकार को चुनौती देने के साथ प्रभारी मंत्री मोहसिन रजा वा खुद यूपी सरकार के ङिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के आदेश को ठेगा रहे है अब ऐसे मे सवाल ये है की जब कानून के रखवाले देश के चौथे स्तम्भ के पुत्र को 90 दिन बीत जाने के बाद न्याय नही दिला सके तो जनता वा आमजनमानस को कैसे सुरक्षित रख पायेगे ये बङा और अहम सवाल है खुद सरकार वा कानून व्यवस्था के बङे जिम्मेदारो के लिए

Input By:- Aditya Shukla Amethi

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*