राजर्षि रणंजय सिंह कि स्मृति मे मनाया गया व्याख्यान दिवस बोली गरिमा सिंह अमेठी से मेरा खून का रिश्ता पूर्वजों द्वारा शुरू की प्रथा को आगे बढाना हमारा दायित्व

बात करते है अमेठी की… जहां अमेठी में शिक्षा का अलख जगाने वाले और धर्म प्रचार, शिक्षा प्रसार और समाज सुधार का नारा देने वाले राजर्षि रणंजय सिंह की याद में अमेठी विधायक गरिमा सिंह ने व्याखान माला के रुप में मनाया…अमेठी सरयू देवी सरस्वती विद्या मंदिर में व्याख्यान माला का आयोजन किया गया… कार्यक्रम में तिलोई विधायक मयंकेश्वर शरण सिंह मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुए साथ ही आस पड़ोस के गांवो से आये बड़ी संख्या में लोग उपस्थित हुए… इस मौके पर पूर्वांचल विकास निधि योजना के अंतर्गत डेढ़ करोड़ की लागत से बनाई गईप15 सड़को का शिलान्यास भी किया गया…

दरासल कांग्रेस सांसद संजय सिंह के पिता और अमेठी विधायक गरिमा सिंह के ससुर राजर्षि रणंजय सिंह की याद में व्याख्यान माला के रुप में मनाया गया… कार्यक्रम का नाम राजर्षि रणंजय सिंह व्याख्यान माला रखा… कार्यक्रम में तिलोई से भाजपा विधायक मयंकेश्वर शरण सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष उमाशंकर पांडेय, पूर्व विधायक जमुना प्रसाद मिश्र के अलावा स्थानीय भाजपा विधायक गरिमा सिंह मौजूद रही… कार्यक्रम में आस-पास के गांवो के हजारों लोगों ने हिस्सा लिया… कार्यक्रम में आए लोगों और मुख्य अतिथियों ने राजर्षि रणंजय सिंह के जीवन काल और अमेठी में किये गए शिक्षा के कार्यो पर प्रकाश डाला

वही दीपप्रजव्लन वा बुढ़ऊ महराज कि प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करने के बाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गरिमा सिह ने कहा कि अमेठी से मेरा खून घर परिवार का रिस्ता है लोगो ने जो विश्वास और भरोसा मुझमे जताया है उसे मै उसे टूटने नही दूगी बिना नाम लिये गरिमा सिंह ने कहा कि पिता जी के बताये रास्तो पर चलते हुए अमेठी के विकास के लिए मेरा हर वक्त्त प्रयास जारी रहेगा इसके साथ ही उन्होंने अमेठी के लोगो के हर सुख दुख मे अपनी सहभागिता बनाये रखने कि बात कही

वही कार्यक्रम को लेकर विधायक प्रतिनिधि अनन्त विक्रम सिंह ने कहा कि राजर्षि रणंजय सिंह की याद में आज व्याख्यान माला का आयोजन किया गया है…इस कार्यक्रम के जरिए लोगों को ये संदेश देना है कि समाज के लोगों को अब राजनेताओं पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं है…समाज में खूद को मजबूत करने के लिए नेताओं के आगे हाथ फैलाने की जरूरत नहीं है दुनिया में जैसे बाकि प्रदेशों के लोग स्वंय में सक्षम होना है हर चीज के लिए सरकार को जिम्मेदार नहीं ठहराना चाहिए…ठीक उसी तरह हम लोगों को भी एक-दूसरे को गली नहीं देनी है जो प्रथा हमारे पुर्वजों ने शुरू की है उसी प्रथा को आगे बढ़ाना है…।

Input By:Aditya Shukla

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*