कर्नाटक-10 दिनों का ड्रामा खत्म, कुमारस्वामी ने किया मजबूत गठबंधन सरकार का वादा।

कर्नाटक में 10 दिनों के सियासी ड्रामें के बाद आखिरकार शुक्रवार को कुमारस्वामी ने अपना विश्वास हासिल कर कांग्रेस-जेडीएस गठवंधन की सरकार बना ली. विश्वासमत के दौरान बीजेपी विधायकों ने सदन से वॉक आउट कर लिया लेकिन उसके बावजूद कुमार स्वामी अपना विश्वासमत हासिल करने में कामयाब रहें. विश्वास मत हासिल करने के बाद कुमार स्वामी ने विश्वास दिलाया कि कांग्रेस-जेडीएस की ये सरकार अपनी सत्ता के पांच साल पूरे करेगी.

कुमारस्वामी ने कहा कि उन्हें पता है कि वो गठबंधन की सरकार चला रहे हैं. लेकिन उन्होंने वादा किया कि वो गठबंधन की सरकार का एक नया मॉडल पेश करेंगे जो देश के लिए प्रेऱणा होगा. कुमारस्वामी ने कहा कि बीजेपी को लग रहा ये सरकार दो या तीन महीने में गिर जाएगी लेकिन ऐसा नहीं है ये सरकार स्थायी रूप से पांच साल तक चलेगी.

यह भी देखे:-अब बिना कैमरा नहीं होगी वाहन जांच, पुलिस की मनमानी पर लगेगी रोक

कुमारस्वामी ने पूर्ण बहुमत के बिना मुख्यमंत्री पद पर काबिज होने का अफसोस भी जताया लेकिन साथ ही ये वादा किया कि ये सरकार सबको साथ लेकर स्थायी रूप से चलती रहेगी.

कर्नाटक में तीन दिन पुरानी एच डी कुमारस्वामी सरकार ने बीजेपी विधायकों के वॉक-आउट के बीच शुक्रवार को राज्य विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया. जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के विधायकों और दूसरे विधायकों की मौजूदगी में कुमारस्वामी के सरकार के प्रति विश्वास प्रस्ताव को ध्वनि मत से स्वीकार कर लिया गया.

यह भी देखे:-बुलंदशहर -आदमखोर कुत्तों का कहर, 72 घंटे में 349 बने शिकार

बीजेपी विधायकों ने विश्वास मत से ठीक पहले सदन से वॉक-आउट  कर लिया.  सदन से 104 सदस्यों के गायब होने के बावजूद कुमारस्वामी विश्वास मत हासिल करने में सफल हो गए क्योंकि कांग्रेस-जेडीएस के पास संयुक्त रूप से बहुमत से अधिक विधायक मौजूद थे. बीजेपी के वॉकआउट के बाद सदन में विश्वास प्रस्ताव ध्वनिमत से पास हो गया. विपक्ष के नेता बी एस येदियुरप्पा ने कुमारस्वामी पर निशाना साधते हुए कहा कि सत्तारूढ़ गठबंधन ‘‘ अपवित्र ’’ है.

कुमारस्वामी ने अपने भाषण में कहा कि उनकी सरकार सभी वर्गों को साथ लेकर चलेगी और विपक्ष के सुझावों को ध्यान में रखा जायेगा. दूसरी ओर येदियुरप्पा ने कांग्रेस-जेडीएस सरकार को चेतावनी दी है कि यदि 24 घंटे में किसानों का कर्ज माफ नहीं किया गया तो वह और उनकी पार्टी पूरे प्रदेश में आंदोलन करेंगे.

कुमारस्वामी ने बुधवार को विपक्षी नेताओं के बड़े जमावड़े के बीच मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. यह फ्लोर टेस्ट बीएस येदियुरप्पा के इस्तीफे के छह दिन बाद हो रहा है. येदियुरप्पा ने पिछले शनिवार को अपने दो दिन के कार्यकाल के बाद इस्तीफा दे दिया था.ल

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*