हाथरस – प्रकोष्ठों और विभागों के दम पर चल रही कांग्रेस ,कांग्रेस जिलाध्यक्ष का अंदरखाने विरोध

publish by-कैलाश पौनियां
हाथरस  । भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का जिले में अस्तित्व बिल्कुल खत्म सा है। कांग्रेस की हाथरस जिला कमेटी का नेतृत्व शून्य है। काग्रेस की जिला कमेटी के पास स्थाई जिला कार्यालय तक नहीं है। यदा कदा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष का अखबारों में हल्का फुल्का बयान आ जाता है । कांग्रेस की जिला कमेटी जिले में निश्क्रिय दिखाइ दे रही है। कांग्रेस के कुछ सक्रिय कार्यकर्ता दबी जुबान से और नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि जिला कमेटी सक्रिय कार्यकर्ताओं को तबज्जो नहीं दे रही है। जिससे सक्रिय और निश्क्रिय कार्यकताओं के बीच मतभेदों की गहरी दरार पड़ी हुई है।
कांग्रेस जिलाध्यक्ष करुणेश मोहन दीक्षित प्रदेश अध्यक्ष रबब्बर के साथ
दूसरी पार्टियों से आये लोगों के हाथों में जिम्मेदारी दे दी जाती है। जिला कमेटी बाहरी लोगों पर ज्यादा भरोसा करती है जबकि सक्रिय कार्यकताओं को नजरअंदाज कर दिया जाता है। यहां काग्रेस विभागों और प्रकोश्ठों के सहारे ही चल रही है। जिला कमेटी का नेतृत्व कतई कहीं दिखाई नहीं दे रहा है।
कांग्रेस जिलाध्यक्ष करुणेश मोहन दीक्षित
सूत्रों की मानें तो करीब डेढ़ साल से जिला कमेटी की बैठक ही नहीं हुई है। राश्ट्रीय नेतृत्व से सरकूलर आने के बाद सिर्फ लकीर ही पीटी जाती है। ऐसा लगता है जिला कमेटी का नेतृत्व धराशायी हो गया है। जनता के बीच जाने की जिला कमेटी ने कभी जहमत नहीं उठाई। सिर्फ पद की लोलुपता में अपने घरों में बैठकर संगठन को चलाया जा रहा है। यहां की जिला कमेटी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मंसूबों में पलीता लगाने का काम कर रही है।
input by-कैलाश पौनियां

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*