ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे तैयार, NCR को जाम-प्रदूषण से मिलेगी राहत, आज PM करेंगे उद्घाटन

Report By Yash

कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेस वे (ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे) सफर के लिए तैयार हो गया है। छह लेन चौड़े इस एक्सप्रेस वे से दिल्ली को जाम और प्रदूषण से बड़ी राहत मिलेगी। सफर के दौरान समय और पैसे दोनों की बचत होगी। रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बागपत के खेकड़ा कस्बे में इसका उद्घाटन करेंगे। कुंडली से पलवल तक यह 135 किलोमीटर लंबा ‘एक्सप्रेस वे है। नोएडा, ग्रेटर नोएडा, फरीदाबाद, गाजियाबाद और सोनीपत जैसे एनसीआर के शहर एक्सप्रेसवे के सहारे जुड़ जाएंगे और इन शहरों में जाने के लिए दिल्ली नहीं आना होगा। हरियाणा, पंजाब और राजस्थान की तरफ जाने वाले भारी वाहनों को दिल्ली नहीं आना होगा। एक्सप्रेसवे की डीपीआर के समय ही अनुमान लगाया गया था कि इससे राजधानी में करीब 40 फीसदी भारी वाहन कम हो जाएंगे। एनसीआर व दूसरे राज्यों को जाने वाले वाहन एक्सप्रेस वे से निकल जाएंगे।

सराय काले खां-गाजीपुर रविवार संभलकर निकलें
‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार सुबह ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे का उद्घाटन करने के साथ ही शो भी करेंगे। इस वजह से एनएच 24 के एक्सप्रेस वे वाले (सराय काले खां से गाजीपुर) हिस्से पर यातायात बंद रखा जाएगा। जानकारी के अनसार, सराय कालेखां के पास मिलेनियम पार्क से प्रधानमंत्री खुली गाड़ी में रोड शो करेंगे। इस दौरान आस-पास भीड़ जुटने की भी उम्मीद है। वे गाजीपुर तक रोड शो करेंगे और इसके बाद वापस अक्षरधाम के पास खेल गांव पहुंचे थे। यहां से वह हेलीकॉप्टर से बागपत जाएंगे।

ग्रेटर नोएडा से आधे घंटे में पलवल-सोनीपत
ग्रेटर नोएडा से इन शहरों की दूरी अधिकतम आधे घंटे में तय हो जाएगी। मथुरा, फरीदाबाद, हरिद्वार, गुड़गांव समेत अन्य शहरों को जाने वाले लोगों के समय और ईंधन की काफी बचत होगी। हालांकि, अभी टोल दरें तय होना बाकी है।

यमुना सिटी और नए एयरपोर्ट को सीधा फायदा
ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का सबसे अधिक हिस्सा गौतम बुद्ध नगर जिले में है। गौतमबुद्ध नगर जिले में सिरसा इंटरचेंज 83 किलोमीटर पर है। यहां से पलवल 53 और कुंडली 83 किलोमीटर दूर है। सभी इंटरजेंच पर टोल बूथ बनाए जाएंगे। इस एक्सप्रेसवे के शुरू होने से सबसे अधिक फायदा यमुना सिटी और प्रस्तावित जेवर एयरपोर्ट को मिलेगी। दिल्ली, गाजियाबाद, बुलंदशहर मेरठ, पलवल आदि से एयरपोर्ट जाने के लिए इस एक्सप्रेसवे से आ सकेंगे। यमुना प्राधिकरण द्वारा बसाई जा रही यमुना सिटी भी। इससे जुड़ जाएगी।

ऐसे बिछाया गया है एक्सप्रेसवे का जाल
कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेसवे से आने वाले वाहनों को दिल्ली-आगरा और पलवल-कुंडली-मानेसर एक्सप्रेसवे पर जाने के लिए पलवल में एनएच-2 पर गांव कुशलीपुर के समीप एक इंटरचेंज बनाया गया है। जहां से वाहन अपने गंतव्य के लिए जा सकेंगे। पलवल से मानेसर होते हुए यह एक्सप्रेसवे एनएच-1 कुंडली, एनएच-10 को झज्जर के समीप तथा एनएच-8 सोहना मानेसर के बीच जोड़ेगा। जहां ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे ग्रेटर नोएडा-गाजियाबाद-बागपत से होकर सोनीपत में मिलाया जाएगा।

फिलहाल टोल टैक्स मुक्त
ईस्टर्न एक्सप्रेसवे पर टोल टैक्स लगेगा। मगर अभी तक दर तय नहीं हुई है। शुरुआती दिनों में एक्सप्रेसवे टोल टैक्स मुक्त रहेगा। अधिकारियों का कहना है कि इस एक्सप्रेसवे पर हाईवे की अपेक्षा सवा गुना दर रहेंगी। हर एंट्री प्वॉइंट पर चालक को एक पर्ची मिलेगी। जब वह उतरेगा, उसे कुल यात्रा के हिसाब से टोल देना होगा।

  • 7500 करोड़ रुपये आई है लागत इसमें
  • 135 किलोमीटर लंबा है ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे
  • 40% तक भारी वाहन घट जाएंगे दिल्ली में
  • 60 हजार वाहन शुरू में करेंगे एक्सप्रेसवे का इस्तेमाल

 

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*