बुलंदशहर -आदमखोर कुत्तों का कहर, 72 घंटे में 349 बने शिकार

बुलंदशहर में आदमखोर कुत्तों का कहर का आंकड़ा बेहद चौंकाने वाला है. आपको यह जानकर हैरत जरूर होगी कि जनपद के अलग-अलग हिस्सों में 72 घंटे के भीतर 349 लोगों को कुत्ते अपना शिकार बना चुके हैं. जिले के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ रामवीर सिंह ने बताया कि बीते 72 घण्टों में 349 एन्टी रैबीज की वायल इस्तेमाल हुई हैं.

बता दें कि ये आंकड़ा सिर्फ जिला अस्पताल का है जनपद सीएचसी से भी अगर आंकड़े मंगाए जाते तो ये तस्वीर बेहद चौंकाने वाली हो सकती है. बता दें कि इन आदमखोर कुत्तों को नियंत्रित करने की जिम्मेदारी नगर पालिकाओं की हैं लेकिन सिस्टम के लुंजपुंज रवैये के कारण कुत्तों को कंट्रोल करने की फुरसत किसी को नहीं है. बीमार अस्पताल को इलाज की जरुरत कुत्तों का शिकार मरीज इस उम्मीद के साथ अस्पताल में पहुंचता है ताकि उसको ट्रीटमेंट मिल जाएगा. लेकिन अस्पताल में कुत्तों की घूमती टोली को देखकर उसका हौंसला पस्त हो जाता है.

यह भी देखे:- अमित शाह ने माना उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन बीजेपी के लिए है भारी चुनोती

सरकारी अस्पताल में कुत्तों के झुंड देखे जा सकते हैं. यहां आए दिन कुत्तों की बारात देखी जा सकती है. कई बार तो कुत्ते मरीज के बेड पर ही सवार हो जाते हैं. जिला अस्पताल के डॉक्टर एमपी सिंह कहते हैं कि जिले भर से कुत्तों का शिकार हर रोज 125 से 150 लोग जिला अस्पताल में रैबीज का इंजेक्शन लगवाने के लिए आते हैं. इसमें बच्चों की भी खासा तादाद होती है, अस्पताल में पर्याप्त संख्या में रैबीज के टीकों का स्टॉक मौजूद हैं.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में पिछले एक महीने के दौरान आवारा कुत्तों का आतंक काफी बढ़ गया है. आदमखोर कुत्तों ने सीतापुर में अब तक 13 बच्चों की जान ली है. इसकी गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद ही जिले का दौरा कर पीड़ितों से मुलाकात की थी और अधिकारियों को कड़े दिशा निर्देश जारी किए थे.

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*