अमेठी पुलिस का अमानवीय चेहरा पिछले 18 दिनो से हवालात मे है दो नाबालिग आरोपित परिवार ने जगदीशपुर थानाध्यक्ष पर लगाये गंभीर आरोप

वैसे तो पुलिस कि हनक और अमानवीय चेहरे आपने खूब देखे होगे लेकिन ये खबर एक बार फिर अमेठी कि पुलिस को कटघरे मे खड़ा कर रह है यहा वर्दी का वर्चस्व कोई और नही बल्कि थाने के थानाध्यक्ष दिखा रहे जनाब को ना कानून का भय है ना सजा कि चिंता तभी तो साहब ने वर्दी का वर्चस्व दिखाते हू एक परिवार को पिछले कई दिनो से पुलिसिया प्रताड़ना देते नजर आ रहे मामला मीङिया तक पहुचा तो जिम्मेदार भी अब विभागीय कार्यवाही कि बात कर रहे है सवाल ये है कि योगी राज मे अपराधियो के लिए कङे तेवर वा बेगुनाहो को न्याय दिलाने के लिए अमेठी पुलिस का ही आमनवीय चेहरा क्यो सामने आता है ये बङा सवाल पुलिस के बङे जिम्मेदारो के लिए

मामला वीवीआईपी अमेठी के जगदीशपुर थाना क्षेत्र से है जहा बीते 10 मई को जगदीशपुर थानांतर्गत पालपुर गाव मे फल व्यापारी के पुत्र कि लाश उन्ही के घर मे रक्खे सन्दूख मे मिली थी प्रथम दृष्टया परिजनो ने अपनी पङोसन पर बेटे कि हत्या का आरोप लगाते हुए नामजद मुकदमा पंजीकृत किया था उसी मामले ने एक बार फिर तूल पकङ लिया है बताते चले कि पूरे मामले मे जगदीशपुर थानाध्यक्ष का बङा अमानवीय चेहरा सामने आया है जहा वर्दी का वर्चस्व दिखाने हुए थानाध्यक्ष ने स्वयं एसपी के आदेश को भी ठेगा दिखा दिया और बीते 18 दिनो से दो नाबालिग बच्चो को हवालात मे बंद करके उन्हे पुलिसिया प्रताङना देता रहा वही मामले मे कोई निर्षकर्ष मिलता ना देख आरोपित परिवार ने जगदीशपुर थाना प्रभारी पुलिसिया प्रताङना का आरोप लगाया है पूरे मामले मे आरोपी परिवार कि तहरून निशा ने अमेठी एसपी कुन्तल किशोर को शिकायती पत्र देते हुए जगदीशपुर थानाध्यक्ष पर गंभीर आरोपी लगाये प्राथनी का मानना है कि हत्या के दिन है मृतक बालक के परिजनो ने घर मे घुसकर उसने वा घर के अन्य सदस्यो से मारपीट कि जिससे उनका हाट टूट गया वा परिजनो को भी गंभीर चोट आई वही पूरे मामले मे जगदीशपुर थानाध्यक्ष पर भी उन्होंने गंभीर आरोप लगाये तहरून निशा का मानना है कि पुलिस ने बिना जांच किए उन्हे उनकी बहू वा तीन पुत्रो को हवालात मे ङाल दिया और लगातार प्रताङित करती रही वही 6 दिन मामले मे अमेठी पुलिस अधीक्षक के हस्तक्षेप के बाद पहले तो पुलिस ने उनकी बहू वा बच्चो को को छोड़ा जबकि 8 वे दिन अमेठी एएसपी के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने उन्हे तो रिहा कर दिया लेकिन थानाध्यक्ष ने उनके दो नाबालिग पुत्रो को गिरफ्तार किया साथ ही पिछले 18 दिनो से हवालात मे बंद कर के उनका चालान या विधिक कार्यवाही कि बजाय उन्हे प्रताङित करते रहे

पूरे मामले मे तहरून निशा का मानना है की जगदीशपुर थानाध्यक्ष ने मामले कि बिना जांच किए मेरे दो नाबालिग पुत्रो को प्रताड़ित कर रहा है जिससे दोनो बच्चे घोर सदमे मे है और मानसिक रूप से बदहवास भी मामले मे महिला ने अमेठी एसपी कुन्तल किशोर को शिकायती पत्र सौप कर प्रकरण किए निष्पक्ष जांच कराये जाने के साथ पुलिस प्रताङना के संबंध मे जगदीशपुर थानाध्यक्ष पर भी कठोर कार्रवाई की माग कि है

वही पूरे मामले मे जगदीशपुर थानाध्यक्ष से बात कि गई तो उन्होंने बताया कि केस को कमजोर करने के लिए पुलिस पर परिवार ऐसे आरोप लगा रहा है मामले को घटना के दिन ही गंभीरता से लेते हुए मृतक परिजनो कि तहरीर पर नामजद मुकदमा पंजीकृत किया गया है आरोपियो किया तालाश जारी है जल्द ही घटना का अनावरण किया जायेगा

वही पूरे मामले मे अमेठी एसपी कुन्तल किशोर का कहना है मामला संज्ञान मे है पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करके आवश्यक कार्यवाही की जायेगी

Input By:Aditya Shukla(Amethi)

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*