बनारस-चिताओ के बीच करती है नगर बधुऐ डांस देखे वीडियो

हमारे भारत को परम्पराओं का भी देश कहा जाता है । यहां होने वाले पर्व पर अलग अलग तरह की परंपरा निभाई जाती है । ऐशी ही परम्परा देखने को मिली भोलेनाथ की नगरी काशी में । यहां के मणिकांर्णिक घाट पर जहां एक तरफ चिताएं जल रही थीं ।

वहीं दूसरी तरफ चल रहा था नगर बधुओं का नृत्य । चैत्र नवरात्रों में यहां त्रयोदशी श्रंगार महोत्सव का आयोजन राजा मानसिंह के समय से चलता आ रहा  है । राजा मानसिंह ने बनारस के मणिकर्णिका घाट पर स्थित शमशान नाथ मंदिर का पुनर्निर्माण कराया था ।
उस जामने के कोई भी संगीतकार रूढ़िवादी परम्पराओं को मानते थे और वह महा श्मशान पर आने को तैयार नहीं थे इससे दुखी राजा मान सिंह बहुत दुखी हुए । इस दुख को जानकर नगर बधुओं ने जो उनके आराध्य थे जो संगीत के देवता थे उनकी सेवा में कोई आने को तैयार नहीं था इससे वह भी दुखी थी । इसपर डरते डरते नगर  वधुओं ने राजा मान सिंह पर अपना संदेश भिजवाया की राजा अगर अनुमति दें तो सभी नृत्यांगनाएं अपनी प्रस्तुति देने को तैयार है । तभी  से यह परम्परा हर साल चैत्र नवरात्रों में निभाई जाती है जिसमे देश भर की नगर वधुएं इस कार्यक्रम में शामिल होती है ।
 शमशान घाट पर चिता की अग्नि के बीच अपनी प्रस्तुति देने आए नगर वधुओं ने कहा कि यहां पर डाँस करने से हम लोगों को मुक्ति मिलती है ।इससे  अगले जन्म में मालिक हमको अच्छा दे और बाल बच्चे खुश रहें ।


Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*