सीतापुर -आरटीओ का खुला खेल, एक नंबर की दो बसें बरामद, पुलिस ने किया खुलासा

सीतापुर आरटीओ का खुला खेल, एक नंबर की दो बसें बरामद, पुलिस ने किया खुलासा

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के अधिकारियों का खेल भी अजीब है. वाकई बिल्कुल अजीब. सब जानते है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद ईमानदार सीएम है. वो अपने अधिकारियों से भी यही उम्मीद रखते है, की वो बेहद ईमानदारी से काम करे. ताकि उनकी सरकार की छवि साफ हो सके. इसके लिए सरकार उनको अच्छी खासी तनख्वा देती है. लेकिन यहाँ सीतापुर एआरटीओ दिन भर रोड पर रहते है. दिन भर हर गाड़ियों को चेक करना उनके आगे पीछे भागना लगा रहता है. जिन गाड़ियों में कागज़ातों की कमी हो उनको सीज़ कर राजस्व की पूर्ति करना उनकी ड्यूटी में शामिल रहता है. लेकिन किस्सा बड़ा अजीब है कि सीतापुर में एक ही नंबर की दो बसें चल रही थी. लेकिन एआरटीओ साहब को इन बसों के बारे में अभी तक कोई जानकारी नही थी. क्या ये मानने वाली बात है. अजीब लगता है ये सुन कर की उनकी जानकारी में ऐसा न हो. क्योंकि ये विभाग ऐसा है जिसकी जानकारी के बिना पेड़ से एक पत्ता भी नही टूट कर ज़मीन पर गिरता, फिर ये तो सड़क पर पिछले कई महीनों से दौड़ने वाली वो बस है जिसमे दर्जनों सवारियां रोज़ लहरपुर से सीतापुर आती जाती है.

अगर ऐसे अधिकारी पर माफिया से मिली भगत का आरोप लगा भी दिए जाएं तो गलत नही होगा. वजह है जब दिन भर चेकिंग उसके बाद चूक क्यों. या साफ साफ यूं कहा जाए कि एआरटीओ की मिली भगत से ये माफिया राजस्व को इस तरह से चूना लगा रहे थे.

योगी सरकार की लहरपुर पुलिस ने एक ही नंबर की दो बसों को पकड़ कर ये साबित कर दिया की परिवहन विभाग के अधिकारी माफिया से मिले हुए है. सूत्र इस बात की तरफ इशारा करते है कि सीतापुर में अभी भी इस तरह की कई बसें चल रही है. सूत्र बताते है कि अगर पुलिस विभाग के अधिकारी एआरटीओ विभाग जा कर दस्तावेजों को खंगाले तो सीतापुर बहुत बड़ा खुलासा होगा.

यूपी सीएम योगी आदित्य नाथ की बेहद ईमानदार छवि को सीतापुर पुलिस डिपार्टमेंट कायम किये हुए है. लेकिन सीतापुर के परिवहन विभाग के अधिकारी माफिया से मिलकर योगी सरकार को चूना लगा रहे है. उनकी छवि को बदनाम करने में लगे हुए है.

रिपोर्टर राहुल अरोरा

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*