नागालैंड और त्रिपुरा मै बीजेपी की बड़ी जीत

त्रिपुरा में बीजेपी ने लेफ्टिस्ट पार्टी सीपीएम के 25 साल पुराने किले को ध्वस्त कर दिया है. पिछले विधानसभा चुनाव में जहां बीजेपी को एक सीट भी नहीं मिल पाई थी, वहीं इस साल पार्टी ने 43 सीटों पर जीत दर्ज की है. इतना ही नहीं नगालैंड में बीजेपी ने 29 सीटों पर जीत दर्ज की है. स्थानीय पार्टी एनपीएफ ने को भी इतनी ही सीटें मिली हैं. दोनों ही राज्यों में कांग्रेस इस बार अपना खाता नहीं खोल पाई. हालांकि मेघालय में 21 सीटों पर जीत के साथ कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनी है.
त्रिपुरा विधानसभा चुनाव जीतने के बाद बीजेपी 15 राज्‍यों पर अपने दम पर सरकार बनाने वाली पार्टी बन गई है. अगर बीजेपी नागालैंड में सहयोगियों के साथ मिलकर सरकार बनाती है तो एनडीए की 20 राज्‍यों में सरकार हो जाएगी. वहीं बीजेपी मेघालय में भी सरकार बनाने में कामयाब हो जाती है तो एनडीए की सरकार 21 राज्‍यों में हो जाएगी. आपको बता दें कि 1984 में जब पार्टी की स्‍थापना हुई थी तो उसके पास महज दो सीट थीं. अब एनडीए का राज 67.85 प्रतिशत आबादी पर है. वहीं यूपीए का 7.78 प्रतिशत आबादी शासन है.

त्रिपुरा में अपनी हार स्वीकार करते हुए मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर विधानसभा चुनाव जीतने के लिए धन व बाहुबल का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया. चुनाव परिणाम आने के बाद उन्होंने कहा, ‘हां, ऐसा हुआ क्योंकि भाजपा ने बईमानी से बड़े पैमाने पर इकट्ठा किए धन व बाहुबल का इस्तेमाल किया और सभी वाम विरोधी तत्वों को एकजुट करने में कामयाब हो गई.’

नार्थईस्ट की जीत की ख़ुशी दिल्ली में भी मनाई गई जहा प्रधानमंत्री ने अपनी जीत की खुसी जाहिर की बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रधानमंत्री का पार्टी मुख्यालय में स्वागत किया प्रधानमंत्री ने जैसे ही पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करना शुरू किया, तभी पास की ही एक मस्जिद से अजान की आवाज आनी शुरू हो गई. अजान की आवाज कानों में पड़ते ही प्रधानमंत्री ने अपना भाषण रोक दिया. अजान के समय पार्टी मुख्यालय में सन्नाटा पसर गया.

अजान खत्म होते ही पीएम मोदी ने भारत माता की जय कहते हुए अपना संबोधन शुरू किया. उन्होंने कहा कि बीजेपी के अनेक कार्यकर्ताओं ने शाहदत दी है. राजनीतिक विचारधारा के कारण हमारे निर्दोष कार्यकर्ताओं के कारण मौत के घाट उतार दिया. प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान त्रिपुरा में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ताओं को मौन रहकर श्रद्धांजलि दी. उन्होंने कहा कि ये लोकतंत्र की ताकत है कि गरीब से गरीब मतदाता ने वोट की चोट करके हिंसा की विचारधारा के खिलाफ बीजेपी के पक्ष में अपना मतदान किया.

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*