कन्नौज के देवी मंदिरों में भक्तों की भरी भीड़ , चैत्र नवरात्र के पहले दिन मंदिरों में मांता शैलपुत्री रूप की हो रही पूजा

 शारदीय नवरात्र आज से प्रारंभ हो गए हैं और इसमें मां दुर्गा के नौ रुपों की पूजा की जाती है। शारदीय नवरात्र के पहले दिन कन्नौज के देवी मंदिरों में मां के रूप शैलपुत्री की पूजा की जा रही है ! अति प्राचीन कन्नौज के फूल मति देवी मंदिर में भक्तो का तांता लगा हुआ है !

हिंदू धार्मिक ग्रंथो के अनुसार माता आदि शक्ति के पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री के रूप में जन्म लेने के कारण इनका नाम शैलपुत्री पड़ा। शैलपुत्री नंदी नाम के वृषभ पर सवार होती हैं और इनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का पुष्प है। भक्तो में मान्यता है की मां शैलपुत्री अच्छी सेहत और हर प्रकार के भय से मुक्ति दिलाती हैं।

 शैलपुत्री की आराधना से स्थिर आरोग्य और जीवन निडर होता है। व्यक्ति चुनौतियों से घबराता नहीं बल्कि उसका सामना करके जीत हासिल करता है।ये सहज भाव से भी पूजन करने पर शीघ्र प्रसन्न हो जाती हैं और भक्तों को मनोवांछित फल प्रदान करती हैं। शैलपुत्री का पूजन करने से ‘मूलाधार चक्र’जागृत होता है और यहीं से योग साधना आरंभ होती है, जिससे अनेक प्रकार की शक्तियां प्राप्त होती हैं। इसलिए नवरात्र के प्रथम दिन  की उपासना में साधक अपने मन को ‘मूलाधार’ चक्र में स्थित करते हैं।कन्नौज में मातारानी फूलमती देवी मंदिर में आसपास राज्यों से लोग आते हैं !यहाँ से नीर ले जाते हैं जो मंदिर के पुजारी के अनुसार कई रोगों में लाभ दायक है !

शिखर मिश्रा _पुजारी _माता फूल मति मंदिर _कन्नौज !

Input by: Sahid Ali Khan

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*