अमेठी योगीराज मे भी नही थम रहा महिला उत्पीङन

अमेठी योगीराज मे भी नही थम रहा महिला उत्पीङन रोती बिलखती महिला को जब पुलिस भी नही दिला सकी न्याय

बात करे हम अमेठी कि जहा सूबे कि योगी सरकार के कङे दिशानिर्देशो के बाद महिला उत्पीङन थमने का नाम नही ले रहा और यह मामला कही और का नही बल्कि राजनैतिक रूप से हाईप्रोफाईल सीट और सत्ता का महासग्राम माने जानी वाली अमेठी से है वही जनपद मे खास बात यह है कि क्षेत्र और जनपद है वर्ष 20-17 के विधानसभा चुनाव मे गाव कि माटी से पले बढे और राजनैतिक धुरन्धर माने जाने वाले योगी सरकार मे वर्तमान राज्यमन्त्री सुरेश पासी का वही इसके साथ स्वय राजघराने कि बहू महारानी गरिमा सिह स्वय अमेठी विधानसभा सीट से विधायक है वही सवाल ये है योगी सरकार के राज्यमंत्री वा विधायक के गृह जनपद मे ही अगर एक महिला को न्याय ना मिल सके साथ ही उसका उत्पीङन हो तो कही ना कही यह पूरा मामला प्रशासन के साथ स्वय राज्यमंत्री वा विधायिका कि न्यायपलिका को भी संगीनो के साये मे खङा करता है

आपको बताते चले कि सूबे के हाईप्रोफाईल गढ मे इस महिला के साथ हुआ पुलिसिया उत्पीङन का यह मामला अमेठी के धम्मौर कोतवाली के नरसिहंभानपुर गाव से जुङा है आपको बिस्तार से बता दे कि इसी गाव कि मूल निवासी है गुङिया यादव इनके साथ इनके पति सुभाष यादव मा सुदामा यादव वा इनकी ननद दीपू यादव है दरासल बीती रात पीङित महिला गुङिया यादव के पति सुभाष यादव का आपरेशन होना था इसके लिए वे अपनी बहन दीपू यादव जो कि माही हास्पिटल अमेठी मे संविदा पर कार्यरत है वे उनके आपरेशन के लिए उन्हे अस्पताल लेकर पहुची ही थी इसी बीच गाव के ओमप्रकाश यादव कप्तान यादव वा उनके मित्र ङीएम यादव सुभाष यादव के घर पहुचकर दरवाजा खटखटाते हुए अन्दर घुस गए साथ ही सुभाष कि मा वा पत्नी गुङिया से अभद्रता करते हुए जान से मारने कि धमकी दी वही घर मे चीख पुकार के बाद जैसे ही आस पङोस के लोगो पर पङी वे परिवार के सदस्यो को देख लेने कि धमकी देते हुए फरार हो गये

वही जिसके बाद अचानक हुई इस घटना से गुङिया के दो मासूम बच्चो मे 5 वर्ष का दीपक वा 3 वर्ष के अकितं घबरा कर रोने लगे जिसके बाद गुङिया ने बच्चो को शान्त करा 100 ङायल पुलिस पर अपने घर का पता बताकर मदत कि गुहार लगाई लेकिन घटना के दो घंन्टे बाद भी 100 ङायल के साथ उसे किसी भी प्रकार कि मदत नही मिली जिसके बाद पीङित महिला गुङिया ने गाव के पङोसी के निजी वाहन से तहरीर लेकर रोते बिलखते कोतवाली पहुची जहा योगी सरकार मे अपने आप को माफिया समझने वाले बेशर्म पुलिस ने पीङित महिला के तहरीर लेना उचित नही समझा और उसे वहा से जाने की बात कह ङाली वही न्याय मिलता ना देख पीङित महिला ने अमेठी एसपी कुन्तल किशोर से न्याय कि गुहार लगाई जिसके बाद एसपी आफिस से मिली सूचना से हङबङाये धम्मौर प्रभारी निरीक्षक अजय सिह ने घटना के 4 घंटे बाद रात 12’बजे पीङित महिला के घर पहुचे वही पीङित महिला ने घर मे अकेले होने के चलते दरवाजे के अन्दर ही घटनाक्रम कि पूरी दास्ता बताई लेकिन पूरे घटना क्रम मे महिला का आरोप यह है कि पुलिस ने ना ही कोई ठोस कार्यवाही कि और ना ही आरपियो कि गिरफ्तारी कि

महिला उत्पीङन के गंभीर मामले को लेकर जब धम्मौर प्रभारी निरीक्षक अजय सिह से बात कि गई तो उन्होने पीङित महिला के आरोप को निराधार बताया इस पूरे मामले मे इनका साफ कहना है कि पीङित महिला ने फोन पर तहरीर दी थी जिसके बाद वे मौके पर गये लेकिन इन्होने दरवाजा खोले बिना मौखिक रूप मे आरोपियो का नाम बताया जिसके बाद तत्कालीन आरोपियो को थाने ले आया गया वही पहले थाने मे एफआईआर ना लिखने के बाद को गलत बताया उनका कहना है की जितनी भी सूचनाये मिली है वे फोन पर और मौखिक रूप मे मिली है पीङित महिला ने थाने मे कोई लिखित तहरीर नही थी महिला कि मौखिक तहरीर पर आरोपियो को थाने मे बैठाया गया है वे आए तहरीर दे तहरीर के बाद आवश्यक कार्यवाही कि जायेगी

वही इस मामले मे सुल्तानपुर एसपी का भी यही कहना है कि महिला ने प्रभारी निरीक्षक को कोई लिखित तहरीर नही दी है प्रभारी निरीक्षक ने आरोपित पक्ष को थाने मे बैठा रख्खा है वे तहरीर दे दे आवश्यक कार्यवाही कर दोषियो के विरूद्ध मुकदमा पंजीकृत कर लिया जायेगा

input by:Aditya Shukla

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*