अमेठी-माँ मांगे इंसाफ ,सदन मे उठा अभय हत्याकान्ङ का मुद्दा।

 

मा मागे इन्साफ अमेठी के युवराज ने सदन मे उठाया अभय हत्याकान्ङ का मुद्दा

बात करे हम अमेठी कि जहा कानून व्यवस्था को चुस्त दुरुरस्त रखने वा अपराधियो को सलाखो पर पहुचाने के बङे बङे दावे करने वाली अमेठी पुलिस एक मासूम छात्र कि बेरहमी से हत्या होने के 50 दिन के अधिक समय बीत जाने के बाद भी हत्यारो तक नही पहुच सकी सवाल ये है क्या कानून के रखवाले अब एक मा को उसके मासूम लाङले के हमेशा हमेशा के लिए जुदा हो जाने के बाद न्याय दिलाने मे अशक्षम है कुछ भी हो अपराध और अपराधियो का गंढ बन गई अमेठी मे मासूम छात्र अभय हत्या कि हत्या का खुलासा कर पाना अमेठी पुलिस के अब बङी चुनौती बना है

दरसल पूरा मामला अमेठी जनपद के गौरीगंज मुख्यालय से सटे केन्द्रीय वा आवासीय जवाहर नवोदय विद्धालय से जुङा है आपको बताते चले कि बीते 13 जनवरी की रात जन्मदिन के दिन मासूम छात्र अभय सिहं कि बेरहमी से हत्या कर हत्यारो ने शव को विद्धालय परिसर से 4 किलोमीटर दूर रेलवे ट्रेक पर फेक दिया था ताकि पुलिस हत्या को आत्महत्या समझ केस हमेशा हमेशा के लिए बंद कर दे उसी क्रम मे हत्यारो के मनसूबे पर ही अमेठी पुलिस घटना के 1 सप्ताह के अधिक समय तक हत्या को आत्महत्या बताती रही लेकिन मामला पत्रकार पुत्र से जुङा होने के नाते स्थानीय पत्रकारो के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने केस तो दर्ज किया लेकिन बीते 13 जनवरी को हुई घटना मे अब तक समय तक यानी 2 माह के अधिक समय बीत जाने के बाद किसी ठोस सबूत तक नही पहुच सकी एक ओर जहा पीङित पिता ने पिछले दिनो पुलिस कि कार्यशैली से नाराज हो हत्यारो का सुराग देने वाले को 50 हजार रूपये कि इनामी राशि देने कि घोषणा कर पोस्टर जारी किया था वही अमेठी सासंद राहुल गाधी के करीबी वा काग्रेस एमएलसी दीपक सिह ने भी अजय सिंह पत्रकार हिंदुस्तान के पुत्र अभय सिंह की हत्या का प्रकरण और पुलिस द्वारा मामले का खुलासा न कर पाने को लेकर विधान परिषद् में नियम 115 के तहत में प्रकरण को उठाया इस गंभीर मामले मे काग्रेस एमएलसी ने यूपीए सरकार से मांग की इस हत्याकांड का खुलासा जल्द से जल्द किया जाये और इसमें शामिल लोगो को पकड़ा जाये वही काग्रेस एमएलसी ने हीला हवाली करने वाले पुलिस कर्मियों को भी सजा मिलने कि बात कही

वही एक छात्र कि हत्या होने के साथ हाईप्रोफाईल अमेठी मे आए दिन कोई ना कोई घटना पुलिस प्रशासन को सवालो के कटघरे मे खङा करती है अब देखना ये है कि क्या काग्रेस एमएलसी वा पीङित पिता कि माग को लेकर पुलिस प्रशासन आगे कौन सा ठोस कदम उठाता है

Input by aditya shukla

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*