सीतापुर प्रधान मंत्री आवासों में बड़ा गेम, एलिया ब्लाक का मामला

सीतापुर प्रधान मंत्री ग्रामीण आवास योजना आवन्टन में हुयी हेरा फेरी को लेकर जहां हो हल्ला मचा है | उसी हो हल्ले के बीच लाभार्थियों को मानक व नक्सा दिखाने के उद्देश्य से ब्लाक परिसर ऐलिया में घटिया ईंट व मसाले से निर्माणाधीन मॉडल आवास चर्चा का विषय बना हुआ है | आवास निर्माण में जहां पुरानी ईंट तोड़कर नीव डलवायी गयी है | वहीं पीला व तरावा ईंट के उपयोग से दीवालें खड़ी की गयीं हैं | जिसे आम नागरिक देखकर क्या सीख लेंगे | जो एक प्रश्न चिन्ह है |

बताते चलें कि प्रधान मंत्री ग्रामीण आवास के लिये सरकार द्वारा एक लाख 20 हजार रूपये लाभार्थी के बैंक खाते में भेजे जाते हैं | यह धन लाभार्थी के खाते पर किश्तों में भेजे जाते हैं | साथ ही मनरेगा अन्तर्गत 90 दिवस की मजदूरी दी जाती है | वहीं शौंचालय निर्माण के नाम पर 12 हजार रूपये हैं | जोकि मनरेगा अन्तर्गत है वह भी लाभार्थी के खाते में भेजे जाने का नियम है | इतनी रकम देखकर अपात्र लाभ लेने के लिये सौदा कर लेते हैं |

यह भी पढ़े:सीतापुर – बीजेपी विधायक लोकेन्द्र सिंह व उनके दो गनरों की सड़क हादसे में मौत;

पात्रों को अपात्र या घर पर न मिलना दर्शाकर बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है | इन आवासों के निर्माण हेतु सरकार ने मानक तयं कर रखे हैं  | जिसका नक्सा लाभार्थियों को दिये जाने का प्राविधान है | साथ ही तकनीकी सहायक व ग्रामपंचायत /विकास अधिकारी स्थल पर जाकर लाभार्थी को मानक बताने व नीव खोदने की विधि बताने के नियम हैं | यह कार्य न होने के चलते शासन द्वारा ब्लाक मुख्यालय पर माडल आवास तैयार करने के निर्देश जारी हुये |

यह भी पढ़े:सीतापुर -बाल बाल बचे पुलिस अधीक्षक सीतापुर आनंद कुलकर्णी, विधायक को देखने जा रहे थे ,ट्रक ने मारी टक्कर

इन्ही निर्देशों का पालन करते हुये खण्ड विकास अधिकारी ऐलिया हरिश्चन्द्र प्रजापति ब्लाक प्रांगण में मॉडल आवास बनवाना शुरू किया है | उक्त आवास निर्माण की लागत 1लाख 20 हजार बतायी जा रही है | लेकिन इस आवास निर्माण में शुरू से ही बचत करने का खड़यन्त्र चालू हुआ | प्रांगण में पड़ी पुरानी ईंट जहां नीव के अन्दर रोप दी गयी |

वहीं दीवाल खड़ी करने में सबसे घटिया ईंट कही जाने वाली पीला व तरावा ईंट कम दामों में खरीद कर लगायी जा रही है | मशाले की गुड़वत्ता तो दूर की बात है | ईंट देखकर आम नागरिक क्या सीख ले रहा होगा | जब ब्लाक के जिम्मेदार अधिकारी स्वंय ऐसा खेल खेल रहे हैं | तो औरों को क्या सीख देंगे |
क्या कहते हैं जिम्मेदार
खण्ड विकास अधिकारी हरिश्चचन्द्र प्रजापति बोले कि मॉडल आवास सरकारी निधि से बन रहा है | जितना लक्ष्य ग्रामीण आवास का है उसी लागत से निर्मित कराया जा रहा है ताकि लाभार्थी इसी का आधार मानकर अपना आवास निर्माण कराये | आवास में घटिया किस्म की पीला व तरावा ईंट लगाने को लेकर कहा कि ईंट फस्ट नंम्बर की है | चाहो तो जांच करालो |
Input by:Rahul Arora

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*