शामली -‘मिस्टर एनकाउंटर’ बने अजय पाल, DGP ने दी ‘मिस्टर एनकाउंटर’ की उपाधि

शामली – DGP ने दी ‘मिस्टर एनकाउंटर’ की उपाधि SP अजय पाल शर्मा की तारीफ
उत्तर प्रदेश  डीजीपी ओपी सिंह ने मेरठ जोन की समीक्षा बैठक के दौरान -शामली कप्तान डॉक्टर अजयपाल शर्मा व मुज़फ्फरनगर एसएसपी अनन्तदेव की जमकर तारीफ की और दोनों की पीठ थपथपाई डीजीपी ने कहा की यूपी में मुख्यमन्त्री के आपरेशन क्लीन स्वीप में सबसे अधिक उक्त दोनों अधिकारियों ने बदमाशों को ठिकाने लगाया- जिससे आमजनमानस में पुलिस की छवि में सुधार हुआ है -उन्होंने बाकी कप्तानों को भी इसी तरह काम करने की हिदायत दी !
उत्तर प्रदेश के नौ जिलों की कानून-व्यवस्था  की समीक्षा बैठक करने के लिए शनिवार को यूपी के डीजीपी ओपी सिंह मेरठ रिजर्व पुलिस लाइन पहुंचे। जहां उनके आने की जानकारी मिलते ही पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में एसएसपी मंजिल सैनी सहित शहर के सभी अफसर पुलिस लाइन पहुंचे।

यह भी देखे:-मथुरा – प्रदेश के राज्यपाल और मुख्यतमंत्री के कार्यक्रम में मंच पर सोते नजर आये विधायक और सांसद

डीजीपी ओपी सिंह को पुलिस अधिकारियों ने सलामी देकर स्वागत किया। इसी दौरान डीजीपी ओपी सिंह नौ जिलों की कानून-व्यवस्था की समीक्षा बैठक की। बैठक के बाद उन्होंने नोएडा एनकाउंटर पर नाराजगी जताई।

मेरठ के रिजर्व पुलिस लाइन में डीजीपी ने मेरठ जोन के सभी कप्तानों के साथ समीक्षा बैठक की। इस दौरान डीजीपी ने नोएडा के फर्जी एनकाउंटर पर खासा नाराजगी जताई है। हालांकि कई दूसरे एनकाउंटर पर पुलिस की तारीफ भी की। डीजीपी ने मीटिंग में शामिल होते ही सामने पड़े शामली के एसपी अजय पाल से पूछा, आज कोई एनकाउंटर तो नहीं किया। इस पर एसपी मुस्कुराए और डीजीपी ने खुश होकर बोले शाबाश।
मिस्टर एनकाउंटर’ बने अजय पाल
बता दें कि प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से अपराधियों का सफाया किए जाने के लिए मुहिम छेड़ी गई। जिसके बाद से मेरठ जोन में सबसे पहले शामली एसपी अजय पाल शर्मा ने ही एनकाउंटर की शुरुआत की थी।

यह भी देखे:-मुरादाबाद:जेल में बंद बंदियों से मिलने के लिए भारत सरकार ने ऑन लाइन मुलाकात आवेदन प्रकिया शुरू की

उसके बाद मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, मेरठ, बुलंदशहर, हापुड़, बागपत पुलिस ने कई कुख्यात बदमाशों को एनकाउंटर में ढेर किया। इस मुहिम में सबसे पहले एनकाउंटर करने के वजह से शामली एसपी अजय पाल शर्मा मिस्टर एनकाउंटर कहे जाने लगे हैं।

मुजफ्फरनगर  एसएसपी अनन्तदेव की तारीफ
वही  मुजफ्फरनगर एसएसपी अनंतदेव तिवारी की भी डीजीपी ने तारीफ की। उनकी काम करने की शैली को जानने के लिए दूसरे अफसरों से नसीहत दी। जिस वक्त डीजीपी अनंतदेव के बारे में बात कर रहे थे, तभी मुजफ्फरनगर से सूचना आ गई कि पुलिस ने एक बदमाश को एनकाउंटर के बाद गिरफ्तार कर लिया। एससपी ने मेरठ की एसएसपी को क्राइम कंट्रोल करने को कहा। इसके साथ ही डीजीपी ने कहा कि आगे भी वह जिलों में दौरे करते रहेंगे।
शामली से पहले हाथरस के कप्तान रह चुके है डॉ अजय पाल
हाथरस  में पब्लिक के दिलो में  है अजय पाल ,हाथरस में भी डॉ अजय पाल के समय में हुई थी कई मुठभेड़ ,धोनी गैंग का ख़त्म  हुआ था आतंक |  ,सट्टा माफिया को भी भेजा था जेल |  जिले में काफी चर्चित कप्तानों में है डॉ अजय पाल |  आज भी डॉ अजय पाल को हाथरस की जनता याद करती है
डीजीपी ने कहा कि पीड़ित को वक्त पर मदद मिले इसके लिए डायल 100 का रिस्पांस टाइम कम किया गया हैं। पहले सूचना के 23 मिनट डायल 100 पहुंचती थी, अब 15   मिनट में पहुंचने का जिम्मा दिया है। डीजीपी ऑफिस पहुंचने वाली हर शिकायत की अब शिकायतकर्ता को एसएमएस के जरिए जानकारी दी जाएगी। उसके समाधान से भी इसी तरह सूचित किया जाएगा।
पुलिस कर रही अच्छा काम
डीजीपी ने कहा कि मेरा खौफ इसलिए नहीं होना चाहिए कि मैं अत्याचारी हूं। जनता के लिए पुलिस मित्र है, लेकिन अपराधियों के खिलाफ पुलिस काम करती रहेगी। कम संसाधन के बावजूद सूबे की पुलिस लगातार अच्छा काम कर रही है। हर थाने में हर महीने सर्वश्रेष्ठ काम करने वाले पुलिसकर्मी को पुलिसमैन ऑफ द मंथ का पुरस्कार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पुलिसकर्मी किसी तरह के दबाव में काम न करें। जनता के बीच आ जाएं और उनकी समस्याओं का समाधान करें। इससे जनता के बीच पुलिस की छवि बेहतर होगी।

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*