शामली- बेख़ौफ़ अब खौफजदां , गिड़गिड़ाकर हिस्ट्रीशीटर बोले साहब अब माफ़ कर दो |

साहब माफ़ कर दो अब नहीं करेंगे अपराध 
 
PUBLISH BY KAILASH PONIYA
,एनकाउंटर स्पेशलिस्ट मैन के नाम से विख्यात शामली के एसपी आईपीएस  अजयपाल शर्मा ने मुख्यमंत्री के मंसूबों में चार चाँद लगा दिए हैं  | मुख्यमंत्री को ऐसे ही एसपी की हर जिले में  जरूरत है जो अपराधियों में खौफ पैदा कर दे  और अपराधी गिड़गिड़ाकर जिंदगी की भीख मांगने को मजबूर हो जाएँ |  जी हां प्रदेश के जिला शामली में अपराधी जिंदगी की  भीख मांगकर अपराधों  से तौबा करने को मजबूर हो रहे हैं | अभी विगत दिन मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने एक कार्यक्रम में कहा था कि जो अब तक औरों की जिंदगी ले रहे थे आज वो अपनी जिंदगी की भीख मांग रहे हैं |  शामली और कैराना को अब बस अभी तक इसी वजह से जाना जाता था कि शामली में  कैराना से लोग बदमाशों के भी से पलायन कर रहे हैं लेकिन उल्टा हो रहा है | अब बदमाश पलायन को मजबूर हो रहे हैं | पूर्व में जो अपराधी बेख़ौफ़ होकर आप[राधिक वारदातों  दे रहे थे वह अब  शपथ पत्र देकर सुधरने और भविष्य में कभी अपराध न करने की कसम खा  रहे हैं  |  यह अपराधी कोई वैसे ही सुधरने को राजी नहीं है शामली एसपी अजयपाल शर्मा की कार्यशैली की बदौलत यह सब हो रहा है है | अगर प्रदेश के हर जिले एसपी इसी तरह काम करें तो अपराधियों को प्रदेश छोड़ने में देर नहीं लगेगी |
 
कृपया हमें माफ कर दें.’ बताया जा रहा है कि बदमाशों में इस बात का डर है कि कहीं यूपी पुलिस उनका एनकाउंटर न कर दे, इसलिए सार्वजनिक तौर पर माफी मांग रहे हैं.
 
जानकारी के मुताबिक, दोनों बदमाशों के नाम सलीम अली और इरशाद अहमद है. दोनों लूट और हत्या के कई मामलों में आरोपी हैं. इस वक्त जमानत पर हैं. उन्होंने शामली के एसपी अजय पाल शर्मा को एक शपथपत्र दिया है, जिसमें लिखा है कि वे दोनों भविष्य में किसी भी अपराध में शामिल नहीं होंगे. अपराध छोड़कर एक अच्छा जीवन बिताना चाहते हैं.
 
एसपी अजय पाल ने बताया कि सलीम और इरशाद उनसे मिले थे. यह बहुत अच्छी बात है यदि वे लोग अपराध से दूर होकर अच्छा जीवन बिताना चाहते हैं. बताते चलें कि अजय पाल शर्मा को मिस्टर एनकाउंटर के नाम से जाना जाता है. वह जबसे शामली के एसपी बने हैं, वहां बदमाशों की शामत आ गई है. लगातार बदमाशों के साथ एनकाउंटर हो रहा है.
 
उनकी चर्चा यूपी में इस कदर है कि खुद सूबे की पुलिस के मुखिया डीजीपी ओपी सिंह ने उनसे एक मीटिंग के दौरान पूछ लिया कि आज कोई एनकाउंटर तो नहीं करके आए. दरअसल ओपी सिंह मेरठ में विभागीय समीक्षा के लिए आए थे. उस वक्त अजय पाल शर्मा जैसे ही पहुंचे उन्होंने उनसे ये बात पूछ ली. इसके बाद उनको शाबाशी भी दी.
 
बताते चलें कि उत्तर प्रदेश में बदमाशों की शामत आ गई है. अपराधियों को लेकर यूपी पुलिस एक्शन में है. ऑपरेशन ‘ऑलआउट’ के मोड में कार्रवाई करते हुए यूपी पुलिस ने कुछ दिन पहले 72 घंटे में 24 एनकाउंटर कर डाले, जिसमें 36 कुख्यात अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया गया, जबकि 3 इनामी बदमाश ढेर कर दिए गए.
 
बताया गया कि 3 दिन के अंदर यूपी के 15 जिलों में पुलिस और बदमाशों के बीच जबरदस्त मुठभेड़ें हुईं, जिसमें सबसे ज्यादा चार एनकाउंटर शामली में, तीन एनकाउंटर बुलंदशहर में, जबकि कानपुर, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर और लखनऊ में दो-दो एनकाउंटर हुए. मुठभेड़ के दौरान बदमाशों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार बरामद किए गए.
 
आतंक का पर्याय बन चुके बावरिया गैंग के 4 डकैतों को गिरफ्तार किया गया, जबकि दूसरे में दो डकैतों को गोली लगी है. यह दोनों बावरिया गैंग से जुड़े डकैत हैं. पुलिस ने तड़ातड़ हुए इन एनकाउंटर्स में जिन बदमाशों का काम तमाम किया है, उनमें कईयों पर 10 हजार से 50 हजार तक का इनाम घोषित था. कई सनसनीखेज केस दर्ज थे.

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*