अमेठी प्रधान सम्मेलन समारोह कार्यक्रम मे महिलाये ही सबसे पीछे महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम कि उङी धज्जिया

बात करते है अमेठी की…जहां महिलाओं को आगे लाने की बातें हर सरकार बढ़चढ़ करती है और महिला आरक्षण के नाम पर ग्राम सभा मे सीटें आरक्षित करके महिलाओं को समाज की मुख्यधारा में लाने का प्रयास भी किया जाता है जिससे वो गांव का विकास करके महिला सशक्तिकारण को बढ़ावा दे, लेकिन आज भी महिला प्रधान देश मे पुरुषों का वर्चस्व बना हुआ है… अमेठी के जिला मुख्यालय गौरीगंज स्थित रणंजय इंटर कालेज मैदान पर सरकार की योजनाओं को हर व्यक्ति तक पहुँचाने के लिए  ग्राम प्रधानों के सम्मेलन का आयोजन किया गया…

सम्मेलन में अमेठी की 682 ग्राम पंचायतों के प्रधान तो उपस्थित तो हुए लेकिन 300 महिला ग्राम प्रधानों में सिर्फ दो दर्जन ही महिला ग्राम प्रधान ही मौजूद रही… बाकी महिला ग्राम प्रधानों के प्रतिनिधि के रूप में बेटा, पिता या पति उपस्थित हुए। अब ऐसे में एक बड़ा सवाल ये उठ रहा है कि जब महिला ग्राम प्रधान इस तरह के कार्यक्रमो में नही जाएंगी तो अपनी जनता तक सरकार की योजनाओं को कैसे पहुंचाएगी..

वहीं कार्यक्रम के दौरान सैकड़ो ग्राम प्रधान नाराज हो गये और जिला पंचायत राज अधिकारी से सवाल करने लगे कि 11 बजे से कार्यक्रम चल रहा है लेकिन 1.45 तक जिलाधिकारी अमेठी कार्यक्रम में नहीं पहुंची ऐसा क्यों…किसी तरह से मंच पर मौजूद अधिकारियों ने ग्राम प्रधानों को शांत कराया…वहीं जब महिला ग्राम प्रधानों की कम उपस्थिति को लेकर जिला पंचायत राज अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि 336 महिला ग्राम प्रधान है लेकिन पचास प्रतिशत महिलाएं उपस्थित हुई है जबकि वहां पर करीब दो दर्जन महिलाएं ही पहुंची है…।

Input By:Aditya Shukla

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*