महिला टीचर और चपरासी को आपत्तिजनक हालत मे देखना छात्रा को पड़ा भारी

महिला टीचर और चपरासी को आपत्तिजनक हालत मे देखने पर छात्रा को मिली सजा विद्धालय प्रशासन ने छात्रा को नही दिया प्रवेश पत्र कैमरे पर बोली छात्रा कार्यवाही नही हुई तो करूगी आत्महत्या

एकंर बात करे हम अमेठी कि एक तरफ जहा केन्द्र कि मोदी वा प्रदेश कि योगी सरकार बेटी पढाओ और बेटी बचाओ अभियान को उत्तर प्रदेश के साथ साथ सम्पूर्ण भारत देश मे इस अभियान को तेजी से अग्रसर कर रही है वही राजनीति का आखाङा माने जाने वाली अमेठी मे एक विद्धालय का शर्मनाक मामला सामने आया है खबर ऐसी है जिसे सुनने के बाद पैरो तले जमीन खिसक जायेगी आपको बताते चले कि इस विद्धालय प्रशासन को ना तो कानून का भय है और ना ही सजा कि चिन्ता फिलहाल

यह भी देखे:मुरादाबाद सपा का ‘पकौड़ा प्रोटेस्ट,, ठेले पर बेचे 20 प्रति किलो पकोडा,, नाम दिया प्रधानमंत्री पकोड़ा योजन

सही मायने मे कहा जाए तो जंगल राज शायद इसी को कहते है आपको बताते चले कि इस विद्धालय मे 10 कि छात्रा को हाल मे शुरू हुई बोर्ङ परीक्षा का प्रवेश पत्र नही दिया गया छात्रा कि गलती महज इतनी थी कि उसने विद्धालय मे तैनात महिला शिक्षका को उसी विद्धालय मे तैनात एक द्धितीय श्रेणी के कर्मचारी यानी विद्धालय के चपरासी के साथ आपत्ति जनक हालात मे देख लिया था जिसके बाद छात्रा से नाराज विद्धालय प्रशासन ने छात्रा पर जुर्म शुरू कर दिए हर छोटी बङी बात पर उसको मारना पीटना ये आम बात हो गई वही जुर्म सहते हुए छात्रा लगातार उसी विद्धालय मे शिक्षा ग्रहण करती रही वही हाल मे शुरू हुई बोर्ङ परीक्षा मे विद्धालय प्रशासन ने उसी मामले मे नाराजगी के चलते छात्रा को परीक्षा प्रवेश पत्र ना देकर उसका एक वर्ष का भविष्य खराब दिया साथ ही उसे यह कह कर ङाट कर भगा दिया कि 4000 रू लेकर आना तब परीक्षा देने आना वही परीक्षा ना दे पाने वा प्रवेश पत्र ना मिलने से नाराज छात्रा ने न्याय के लिए अपने परिजनो के साथ अमेठी जिलाअधिकारी के चौखट पर पहुची जहा पूरे मामले को गंभीरता से देखते हुए जिलाअधिकारी ने अमेठी जिलाविद्धालय निरीक्षक को पूरी मामले कि जाच सौप कर गंभीरता से जाच के आदेश भी दिए है

मामला जामो ब्लाक के अहद में स्थित जनता इंटर कालेज का है।जहाँ पास के गांव की रहने वाली दीप शिखा तिवारी करीब 10 दिन पहले अपने कॉलेज पहुँची थी कालेज के एक कमरे में स्कूल की एक शिक्षिका और चपरासी आपत्तिजनक स्थिति में थे जिस पर छात्रा की नजर पड़ गई जिसके बाद छात्रा को दोनों ने बाहर भेज दिया

यह भी देखे:कूड़े के ढेर पर दुमुहि बच्ची।

दो दिन बाद छात्रा जब अपना प्रवेश पत्र लेने कालेज पहुँची तो उसे प्रवेश पत्र नही दिया गया और कहा गया कि तुम्हारी फीस नही जमा है तुम 4000 हजार रुपये और दो तभी तुम्हे प्रवेश पत्र मिलेगा जबकि छात्रा की पूरी फीस पहले ही जमा हो चुकी थी प्रवेश पत्र न मिलने की वजह से छात्रा वापस अपने घर पहुँची जहाँ उसकी तबियत अचानक खराब होने लगी बेटी की बिगड़ती हालात देख जब माँ ने मामले की जानकारी की तो सारे खेल से पर्दा उठ गया बेटी ने अपने माँ को पूरी सच्चाई बता दी सच्चाई जानने के बाद अपनी बेटी को लेकर माँ डीएम कार्यालय पहुची जहाँ डीएम से मिलकर पूरा मामला बताया बेटी की हालत गंभीर देखते हुए डीएम ने तुरन्त जिला अस्पताल भिजवाया जहाँ उसका इलाज चल रहा है

वही अगर छात्रा कि माने तो कुछ दिन पहले वो स्कूल गई थी जहाँ एक कमरे में शिक्षिका और चपरासी आपत्तिजनक हालात में थे उन दोनों ने भी मुझे देख लिया जिसका बदला मुझसे लिया जा रहा है मेरी पूरी फीस पहले ही जमा हो चुकी थी मुझे प्रवेश पत्र नही मिला जिससे मेरा एक साल बर्बाद हो गया अगर मेरी मैडम के ऊपर कोई कार्यवाही नही होगी तो मै आत्म हत्या कर लूंगी मुझे इंसाफ चाहिए

वही इस पूरे मामले पर जिलाधिकारी ने कहा की मामला गंभीर है और मेरे संज्ञान में है।छात्रा अपने माँ के साथ आई थी और उसकी तबियत भी ठीक नही थी इलाज के लिए उसे जिला अस्पताल भेजा  गया है मामले की जांच डिआईओएस को सौंपी गई  रिपोर्ट आने के बाद सख्त कार्यवाही की जाएगी

Input By:-Aditya shukla

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*