यहां सिचाई विभाग की बड़ी लापरबाही भुगत रहे किसान जाने क्यों

हाथरस   गांव एहवरन पुर में गंग नहर की पटरी कटने से हजारों वीद्या फसल जल मग्न हो गयी। किसानों का कहना है कि हजारों वीद्या आलू और गैंहू पूरी तरह पानी में डूब कर बरबाद हो गया। नहर कटान की सूचना पर आधिकारियों की टीम ने मौके पर पहुंच नहर की पटरी की मरम्मत शुरू कर दी है।हाथरस ब्लाॅक के गांव एहवरन पुर में नहर के की पटरी कटने से हजारों वीद्या आलू और गैंहू की फसल पानी में डूब कर बरबाद हो गयी। गंग नहर की पटरी कटने की सूचना के कई घण्टों बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने जेसीबी मशीनों की मदद से नहर की पटरी पर मरम्मत शुरू करा दी है। किसानों का कहना है कि ये कोई पहली बार नहर का कटान नही है यहंा अक्शर अधिकारियों की लापरवाही से किसानों को इसका खमियाजा उठाना पड़ता है। सुबह सूचाना पर यदि अधिकारी समय से आते तो हाजारों वीद्या फसल बरबाद होने से बचाई जा सकती थी। नहर की पटरी के कटने की सूचना पर अपनी फसल को निहारने पहुंची निर्मला देवी का कहना है कि उनका खेत नही है पर उन्होने किसान से खेत को भाडे पर ले कर इसमें आलू और गैंहू की फसल की थी जो पूरी तरह बरबाद हो गयी है। खेत भाड़े पर लेने वाल पीडितों का कहना है कि किसानों के साथ सबसे अधिक फर्क हम पर पड़ा है जिन्हे साल भर का खेत का भाड़ा भी देना पडे़गा, उनके द्वारा फसल में लगी लाखों की रकम पूरी तरह नष्ट हो गयी। सरकार के द्वारा दिया जाने वाला अनुदान भी किसान के खाते में ही जायेगा। निर्मला देवी का रो रो कर बुरा हाल है उनका कहना है कि अब हमारी बरबादी की ओर सरकार ध्यान दे क्या मदद करेगी इसे देख रहे है।गंग नहर पटरी कटने की सूचना मिलने पर उपजिलाधिकारी अरूण कुमार मौके पर पहुंच गये और फोन के जरिये सिचाई विभाग के अधिकारियों को नहर की पटरी कटने की सूचना सुबह 6 बजे दी थी घंटो बाद जेसीबी मशीन से काम चल रहा था

 

input-umakant hathras

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*